सोमवार, 3 मार्च 2008

“नारी” शोषित से शोषण तक ।

औरत और ज़ुल्म दोनों का बहुत ही गहरा रिश्ता रहा है। मानव सभ्यता का विकास जैसे-जैसे रफ्तार पकड़ता गया उसी के साथ ही औरत का शोषण भी बढ़ता गया। पूर्व वैदिक काल के मातृ सत्तात्मक समाज ने करवट ली और सत्ता पुरुष प्रधान होते ही औरत की स्थिति बद से बदतर होती चली गयी। महिला शक्ति से परिचित पुरुष ने उसे दबाना शुरु किया, नारी को शिक्षा,धार्मिक अनुष्ठान, रणकौशल आदि शक्ति प्रदायी विधाओं से बे दखल कर घर की चार दीवारी में बंद करना शुरू किया। पुरूष के बिना उसका अस्तित्व बेमानी समझा जाने लगा।

इसके बाद के युग की तस्वीर सती प्रथा, पर्दा प्रथा आदि जैसे रोगों से ग्रस्त हो गया।

सन 1947 में परतंत्र देश की तकदीर बदली,भारत अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ। लेकिन सिर्फ देश आजाद हुआ औरत को गुलामी से आजादी नहीं मिली। स्वतंत्र भारत के सभी राजनीतिकों ने अपने-अपने समय में औरत की स्थिति को मुद्दा बनाकर अपना गला खूब साफ किया और उससे अपना वोट बैंक भरते रहे।

इक्कीसवीं सदी आते-आते पूरा वैश्विक परिदृश्य बदल चुका है। आज की नारी सशक्त है,उसने तमाम क्षेत्र में अपनी बुलन्दी के झंडे गाड़ दिये हैं। आज विज्ञान के इस युग में सबकुछ बदल चुका है। सबकुछ महिला शोषण के तरीके भी। आज शोषण घर से बाहर बीच चौराहे होने लगा है। और जो सबसे बड़ा बदलाव है वो ये कि आज की सशक्त नारी ने औरत शोषण की जिम्मेदारी भी खुद ही सँभाल ली है। वह खुद ही इन कर्मों को अंजाम देती है। अब आप इसे युगों तक की उसकी शोषित मानसिकता का परिणाम समझें या नारी सशक्तिकरण की उपलब्धि। पर यह सच है कि वर्तमान में महिला हिंसा, दहेज़, हत्या या भ्रूण हत्या चाहे शोषण का स्वरूप जो भी हो पर इसके पीछे हाथ स्वयं औरत का ही होता है। औरत ने अपनी ताकत का कद इतना बढा लिया है कि जन्म लेने से लेकर किसी के जीने तक का हक भी वह तय करने लगी है।

आज लिंगानुपात जिस तरह बढ रहा है नि:संदेह भविष्य में उसका परिणाम भी औरत को ही भुगतना पड़ेगा। कन्या जन्म के घटते दर की भयानकता को देखकर मन में बरबस एक सवाल उठता है नारी शोषण कहाँ तक? कब तक?

44 टिप्‍पणियां:

ajay kumar jha ने कहा…

julie jee,
kal post padhne ke baad se hee tippni ke liye pachason baar pryaas kiya magar aj ja ke safaltaa mili hai. mujhe lagtaa hai aap log naaree jeevan kaa dard samajhte waqt thodaa saa pakshpaatee ho jaatee hain, ismein naaree jaatee kee jimmedaaree par koi baat nahin ho paatee.

जूली झा ने कहा…

अजय जी, अगर आप पक्क्षपात वाले मुद्दे को ठीक से समझायें तो मुझे अच्छा लगेगा। जहाँ तक औरत के जिम्मेदारी की बात है उस पर मै अगला पोस्ट लिखूंगी

ajay kumar jha ने कहा…

pakshpaat se mera matlab ye ki aap logon kee kalam un aurton ko kyon baksh detee hain jo khud mahilaaon ke is haal ke liye jimmedaar hain.

बेनामी ने कहा…

bilkul sahi hai...............kya hua ham apke lekh ka intjaar kar rahe hai...........

aluchaat ने कहा…

aap ki post padh ke aisa laga jaise ki aap ko aisa mehsoos hota ho ki naari ke haath mein choice hai ki woh bhroon hatya mein bhaagidaar bane ya na...
ya jo aapne aur udhaharan diye hai un se bhi yahi mehsoos hota hai...
kya maine galat samjha hai...
shoshit se shoshan tak? accha? naari ke haatho kaun se shoshan ki baat kar rahi hai aap...

DR.ANURAG ARYA ने कहा…

hamesha yahi ravvya rahega....par aap jaise padhe likhe log hi is soch ko badlege.

PYAASA SAJAL ने कहा…

pata nahi but mujhe o bahut practical treatment laga issue ka....shayad hum logo ko wohi conventional baatein padhne aur sunne ki aadat ho gayi hai jab bhi in saamajik vishayo par koi charcha hoti hai....
mujhe to ye soch fresh aur sahi lagi...

Vikas ने कहा…

टहलतेथहलते आपके ब्लॉग पर आ गया, विचार पढ़ कर अच्छे लगे. पर क्या आपको नही लगता वक़्त बदल गया है? महिलाओं की स्थिति पहले से कही बेहतर है?

KAMLABHANDARI ने कहा…

aapka blog padha ,sabke comments bhi padhe .vikas ji ka kahna hai ki ab mahilawo ki sthiti pahle se kai behtar hai .mai unse ye kahna chhati hun ki ye kewal mutthi bhar mahilawo ki sthiti hai baaki sab abhi bhi purani sthiti mai hi hai.

Hazel Dream ने कहा…

Sorry Meri Hindu utani acchi nahi hai .
feminism is very selfish .. it narrows down your perception .

आशीष कुमार 'अंशु' ने कहा…

सुंदर

माया માયા ने कहा…

नारी को शिक्षा,धार्मिक अनुष्ठान, रणकौशल आदि शक्ति प्रदायी विधाओं से बे दखल कर घर की चार दीवारी में ,द करना शुरू किया।
बंसच है प्राचीन समय मे स्त्रियों को बराबर का अधिकार था जिसे स्वार्थ वश धीरे धीरे बंदिशे लगाकर तुच्छ करार दे दिया गया

MANRAG ने कहा…

bahut achchha madam. apne kam se kam mahilao ke sosan me mahilaon ka hanth hone ki bat ko swikar to kiya. lekin ek bat aur samjh lijiye jis tarah ka mahila saskti karan hua hai. usse bahut achchha tha hamare samaj me mahilao ka sthan. jis tarah bich sadak par puruso ko chhanta marne ke liye utavali hai usi tarah purason ke jaisa nirlajja bankar beijjati bhi sahane ka sahas hona chahiye sasakta mahila me. dhanyabad

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

madam ji ,

amin aapse sahmat hoon ki mahila atyachaar ke peeche mahilaon ka hi haath hota hai ,[ maximum cases ] ,swal ye hai ki kya ek mahila dusre mahila ke dard ko nahi smajhti ?

aapne bahut accha likha hai , badhai .

vijay

pls visit my blog : http://poemsofvijay.blogspot.com/

subhash ने कहा…

यायावरी नियति के कारन टहल रहा था... कुछ पल के लिए आपके ठौर पर रुका... रचना को गुना.. अच्छा लगा... प्रयास की प्रसंशा होनी चाहिए. साथ ही अपेक्ष है की इसी विविधता प्रदान करें...

रवीन्द्र दास ने कहा…

bahut jaldi me diya gaya bayan hai.dhyan de yah sthiti nahi samasya hai, samasya ka samaadhan bhi.chand aansu,bahte hue aansu me jod dena koi activism nahi,bevkooofi hai.

ओस की बूँद ने कहा…

बहुत खूब कहा है। यहाँ भी नजरें इनायत करें।
पल भर

रचना गौड़ ’भारती’ ने कहा…

ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
http://www.rachanabharti.blogspot.com
कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
http://www.swapnil98.blogspot.com
रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
http://chitrasansar.blogspot.com

arvind ने कहा…

ouraton ka shoshan to ouraten kar hi rahi hai ,sach to ye hai ki purush bhi ouraton ke shoshan se bach nahi paa rahe.ourat yadi sakaratmak shakti ka prateek bane to achha hai.

Fauziya Reyaz ने कहा…

asal baat to ye hai juleeji ki aurat ki bhalai mein koi bhi interested nahi hai...sabko apna vote bank bharna hai...aur sirf women reservation se bhi kuch nahi hoga...bas kuch behtari ki umeed kar sakte hain khud se...

AnbhigyA ने कहा…

maaf kijiyegaa juliee jee... parantu aisaa lagaa jaise aapkee lekhani poorvaa-grah se grasit hai... boolandi ke jhoothe baahyaadambar ko sach maan lenaa shaayad bewaqoofi hee hogee...

gaanvon me aaj bhee kamo-besh haalat wahi hai jo pahle the.. shahar me bhi koi badaa bhuchaal nahee aayaa hai.. auraten bas office tak hee soshan se mukt hai.. ghar me maan, baap, pati aur naa jaane kyaa kyaa---

jahaan tak bhrun hatyaa kaa savaal hai... to mujhe naheen lagtaa ki sirf auraton ko iske liye dosh denaa sahi hai...

baaqi aapke vichaar aur mere vichaar prithak to honge heen..

acchhaa laag ek baar aanaa..

baar-baar aanaa pasand karoongaa..

Lalit Pandey ने कहा…

मैं एक इंटरनेट यात्री हूं। मैंने देखा है कि ज्यादातर महिला ब्लागर इसी बात का रोना रोती हैं- हर कालखंड में पुरुष समाज का वर्चस्व और नारी पीड़ित।
यानी ऐसे लेखों में समस्या लिखी होती हैं, समाधान नहीं।
मेरा व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि ऐसे लेख सहानुभूति पाने के लिए लिखे जाते हैं, बदलाव के लिए नहीं।

Mayurji ने कहा…

bahut achchha likha hai aapne. Shubhkamnaye

Naari aur kanya bhrun hatya par kuchh aur padhne ke liye mere blog jarur dekhe

Mayur
visit at
mayurji.blogspot.com

upendra ने कहा…

app ka prayas sarahniya hai. samaj me abhi bhi mahilao ko jitne haque milne chahiye utne mil nahi pa rahe hai. sawal uthane vale khud apne ghar se hi shuru kare ki kya unke ghar ke har faisale me miya bibi dono ka barabar ke samil hai ? app ne bilkul sahi likha hai

pls visit here.. www.srijanshikhar.blogspot.com

बेनामी ने कहा…

Mai to bas itna kahungi NARI TUM KAVEL SARDHA HAO ye Jaishanker Prasad ki pankti hai jise mai sahmat hu par aaj ki 80% nariyo ne ise jhutha kar diya jo ki bahut galat hai......

priti Singh ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
priti Singh ने कहा…

jab ham baat karte hain ki nari hi nari ki dusman hai to ye bilkul hi galt hai .samaaj ki wyavatha hi aisi hai .our nari bhi ushi samaj ka hissa hai.

priti Singh ने कहा…

jab ham baat karte hain ki nari hi nari ki dusman hai to ye bilkul hi galt hai .samaaj ki wyavatha hi aisi hai .our nari bhi ushi samaj ka hissa hai.

priti Singh ने कहा…

jab ham baat karte hain ki nari hi nari ki dusman hai to ye bilkul hi galt hai .samaaj ki wyavatha hi aisi hai .our nari bhi ushi samaj ka hissa hai.

priti Singh ने कहा…

jab ham baat karte hain ki nari hi nari ki dusman hai to ye bilkul hi galt hai .samaaj ki wyavatha hi aisi hai .our nari bhi ushi samaj ka hissa hai.

priti Singh ने कहा…

jab ham baat karte hain ki nari hi nari ki dusman hai to ye bilkul hi galt hai .samaaj ki wyavatha hi aisi hai .our nari bhi ushi samaj ka hissa hai.

बेनामी ने कहा…

Are you looking for [url=http://bbwroom.tumblr.com]BBW amateur pics[/url] this website is the right place for you!

Utho ने कहा…

छोड़ो मेहँदी खडग संभालो, खुद ही अपना चीर बचा लो
द्यूत बिछाये बैठे शकुनि, मस्तक सब बिक जायेंगे
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो, अब गोविंद ना आयेंगे.
 
कब तक आस लगाओगी तुम, बिक़े हुए अखबारों से,
कैसी रक्षा मांग रही हो, दुशासन दरबारों से,
स्वयं जो लज्जा हीन पड़े हैं, वे क्या लाज बचायेंगे
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो अब गोविंद ना आयंगे.
 
कल तक केवल अँधा राजा, अब गूंगा बहरा भी है
होठ सी दिए हैं जनता के, कानों पर पहरा भी है,
तुम ही कहो ये अश्रु तुम्हारे, किसको क्या समझायेंगे?
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो, अब गोविंद ना आयंगे.
 

Amit Arya ने कहा…

यात्री...!
अगर गाँधी आपकी तरह सोचते तो...क्या होता...?

Amit Arya ने कहा…

बिहार में जो महिलाओ की स्थिती है उस हिसाब से तो वहां आदमीयों की भी जिम्मेदारी....जैसा शब्द...उठता है या ये भी महिलाओं की जिम्मेदारी है ।

बेनामी ने कहा…

aap ispar bhi likhiyega saas bhahu k jagdo ko leker ya us saas ko leker likhiye jo bus apni bhahu par hukam chalati hai.bahu bechari chupchap uski aagya manti hai,kaha bahu ko maa ka pyaar milni chahiye to saas hai ki hukum pe hukam.mai un nariyo k liye kaha rahi hu jo aaj b maare darr k ya apne pati k darr ya apni garibi k vajah se chupcap rahati hai.yaha to nari say nari ki saath honi chahiye.samaj me apni jagah baad may pahale to ghar me apni jagah bahaye.

suraj vishvkarma ने कहा…

par aap log ab dekhiye ki naaree kaise aadmi ka hath bata rahi hai



suraj vishvkarma ने कहा…

par aap log ab dekhiye ki naaree kaise aadmi ka hath bata rahi hai



बेनामी ने कहा…

khne k lia hai ki aaj naari azad hai aj bhi uska sosadh ho rha hai. sirf aaj samaj usko apne matlab k lia use kr rha hai.her ek purush jo han me han mila kr ye khta hai ki han ye bura hua us ladki k sath vo kuhd bhi logo ki nazar bacha kr naari ka sosadh krta hai.media k samne to sub saref bante hain maan me to sabhi jante hain ki vo khud kya hain.shayad he 2% log hoge jo apni patni k prati imaandaar ho gay.

बेनामी ने कहा…

naari ka sosardh to her gher se suru hota hai ladka gher deer se ae to koi swaal nhi puchta is dar se ki gher me kalah ka mahool ho jae ga.pr ladki der se ae to kai shwal puch lia jate hain.ladha khoob haas haas ke girlfriend k kisee sunata hai our ladki deer tak phone bhi pakadh lea to dhearo swaal hote hain. to ladhko ki girlfriend kahi dusri duniya se to ai nhi hai.ye to whi haal hai ki crimnal her gher me tayaar kia ja rhe hain our kha ja rha hai ki desh bachao.

बेनामी ने कहा…

mere khayal se nAri kafi aage badh chuki hai.shoshan ko rokana achi tarah janti hai.ab atyachar ka rona band hona chahiye.

बेनामी ने कहा…

h

arun kumar mishra ने कहा…

juli ji,
kya nari me koi galti nahi hai?
kya aj mahilao ke sath jo ho raha hai usme unki galti nahi hai?
kya kevel purush hi galati karte hai?
apane kabhi bichar kiya hai, nar-nari ek dusre ke purak hai naki pratidavandi

Pragati Bharti ने कहा…

Aaj bus mahila me aurat nahi aa rahi balki.kyi masum ladki aur kyi masum choti si bachi jinke sath aaj khule aam. RAFE ho rahe lekin koi us ladka ko dos nahi dete sab aaj bhi. Ladki ko hi dos dete ;kya ye sahi hai ki isme bus ladki ka hi dos.hai